मोहब्बत भी तेरी थी, वो नफ़रत भी तेरी थी Mohabbat Shayari In Hindi Font

मोहब्बत भी तेरी थी, वो नफ़रत भी तेरी थी !

वो अपनाने और ठुकरने की अदा भी तेरी थी !

मैं अपनी वफ़ा का इंसाफ किस से मांगता !

वो शहर भी तेरा था और वो अदालत भी तेरी थी !!

Bookmark and Share

हेल्लो दोस्तों,
यदि आप के पास इस से अच्छे जोक्स, शायरी, ग़ज़ल, कविता, सुविचार या कुछ ऐसा जिसे आप बहुत सारे मित्रो के साथ शेयर करना चाहते है तो यहाँ क्लिक करे
- धन्यवाद