बस यूँ ही जी लेंगे दोनों

*मैं ख्वाहिश बन जाऊँ,,,
.
और तू रूह की तलब
.
बस यूँ ही जी लेंगे दोनों
.
मोहब्बत बनकर रोशन