लोग जलते रहे मेरी मुस्कान पर Dard Hindi Bhari Shayari

लोग जलते रहे मेरी मुस्कान पर,

मैंने दर्द की अपने नुमाईश न की

जब जहाँ जो मिला अपना लिया,

जो न मिला उसकी ख्वाहिश न की।

Bookmark and Share

हेल्लो दोस्तों,
यदि आप के पास इस से अच्छे जोक्स, शायरी, ग़ज़ल, कविता, सुविचार या कुछ ऐसा जिसे आप बहुत सारे मित्रो के साथ शेयर करना चाहते है तो यहाँ क्लिक करे
- धन्यवाद